Design a site like this with WordPress.com
प्रारंभ करें

सितमगर

देख कर किसी ने मुस्कुराना छोड़ दिया,सितारों में हमने घर बसाना छोड़ दिया! मोहब्बत में शिकवा होता नहीं करतें हैं,इश्क़ ए अदा ही आजमाना छोड़ दिया! कहने को होते हैं सारे रिश्ते नाते दोस्तों,अपनों ने भी हाथ मिलाना छोड़ दिया! देखीं हैं हमने तो ऐ ख़ुदा तेरी हर ख़ुदाई,इसी वजहसे ही सर झुकाना छोड़ दिया!पढ़ना जारी रखें “सितमगर”

Advertisement