Design a site like this with WordPress.com
प्रारंभ करें

मेरे हाथों में कुछ भी नहीं!!💔

मेरे हाथों मे कुछ भी नहीं है इन लकीरों के सिवा,भुला सके तो भुला दो तुम ही मुझको,मेरी जिंदगी में कुछ भी नहीं है तनहाइयों के सिवा! तुझको भी है यकीनन भरोसा मगर फ़िर भी,मिलेगा कुछ भी नहीं पाकर मुझको,मेरे घर कुछ भी नहीं है सिर्फ दीवारों के सिवा! किया है बंद इस झील कीपढ़ना जारी रखें “मेरे हाथों में कुछ भी नहीं!!💔”

Advertisement